Advertisements

Kaliyug ka Mahabharat (Mahabharata of Kaliyuga (Dark Period)

कलियुग के संदर्भ मैंने कृष्ण से वार्तालाभ किया ,
क्या फिर से सतयुग आयेगा इसका भी प्रमाण लिया |
इस कलियुग के धृतराष्ट्र को अंधे होने का वरदान दिया,
सच की टकसाल को तुच्छ होने का अहसास दिया ,
दुर्योधन रूपी आकांशा एवम अभिमान को श्र्ष्ठता का वरदान दिया ,
दुशाशन के कृत्यों को भरी महफिल में सलाम किया |
चौसट के खेल को इसीलिए विश्व में सम्मान दिया ,
शकुनि रूपी आत्माओ को महात्मा होने का स्थान दिया |
बोल गीता माँ इस विश्व में सदाचार को कैसा कलियुगी अभिशाप दिया ,
कृष्ण बोल के थक गया , अर्जुन का बाण भी हो गया परास्त |
फिर महाभारत की संरचना का ये कैसा अभिप्राय मिला ,
हर युग हुआ संहार का सूचक, अंत में अधर्म का नाश किया ,
यह मनुष्य की संरचना ही थी भयंकर , जिसने संपूर्ण पृथिवी का सर्वनाश किया |
कृष्णा ने प्रस्तुत किया था उदाहरण , जो हर युग में क्रांति का सूचक बना ,
जो कहना चाहता था कुछ और शायद हमने और कुछ सुना |
इस पंक्ति के करता हु समाप्ति ,
अवोभायग्य हमारे जो फिर से कलियुग ने महाभारत रूपी अमृत का पान किया |
धन्यवाद !

Advertisements

Published by AnkiitzB'sen

Knowingly follower of unknown..........

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.